Tuesday 18 December 2012

सुदर्शन चक्र

फिर दुस्शासन अपनी पर है 
उसको यक़ीनन दुर्योधन का सहयोग है 
सुरक्षा के जिम्मेदार धूर्त चालबाज शकुनि ने 
शिखंडियों को लगाया है पहरों पर 
कर्तव्य से बढ़कर मर्यादा का बोझ लादे 
दुबके बैठे हैं चुपचाप विदुर द्रोण और भीष्म 
कुछ देखना ही नहीं चाहती 
पुत्र मोह से ग्रसित साम्राज्ञी गांधारी
ऐसा ही होता है एक अंधे राजा के शासन में 
एक बार जो अत्याचार हो गया स्त्री पर 
वस्त्र दान कोई उपाय नहीं है नारी की व्यथा का 
उस पर हुये अत्याचार सिर्फ और सिर्फ गर्दनें उतारने से कम होंगे 
अफसोस यह 
कि भगवान कृष्ण भी आ जाएँ 
तो वे भी सुदर्शन नहीं चलाते अपना 
द्रौपदियों के नामों की लिस्ट बढ़ती जाती है रोज रोज 

No comments:

Post a Comment