Thursday 29 October 2009

कतरन

एक रोशनी के टुकडे पर
मेरे घर का पता होना चाहिये
मुझे एक खत पढना है
जो तुमने नही लिखा कभी
दोनो ही बातों पर
मेरी राय मे डाकिया खास है
ऒर आज भी गरीब है
दूध हमेशा ही मंहगा बिका
दूध की जरूरत हमेशा रही
त्योहारों पर मिठाइयाँ
मिलावट से भी बनती हैं
हलवाई मोटे हैं आज भी
गायें ऒर भैसों की स्थिति मे
कोई सुधार हुआ है क्या
रात कविता सोचने बैठो
तो अच्छी हवा का क्या कहना
कपड़े भी चाहिये
ठंडी हवा से बचने को
मिल की चिमनी
उगलती रहती है काला धुँआ
अब ये मर्जी हवाओं की है
जहाँ चाहें ले जायें
टीबी से जर्जर एक गरीब बूढे को
कवितायें दी जा सकती हैं क्या
दवा ऒर खाने की जगह

2 comments:

  1. वाह...!!
    जा रहे थे जापान पहुँच गए चीन....
    सही है...बहुत बढ़िया....

    ReplyDelete
  2. मिश्र जी इस कविता की हर पंक्तो पर एक पूरी कविता बनती है ..प्रयास कीजिये । और इसे एक बार रीअरेंज कीजिये कहीं प्रवाह मे गड़बड- हो रही है ।

    ReplyDelete