Friday 30 September 2011

एक गीत

मत देखो कितना शिक्षा का भण्डार भरा है 
मत देखो कितना दौलत का अम्बार लगा है 
इन चीजों से कभी भला कौन बड़ा होता है 
मगर देखना दुनिया को कोई क्या देता है 
मत देखो कितने व्रत उपवास कोई करता है 
मत देखो नमाज में कोई कितना झुकता है 
मत देखो पत्थर पर कितना माथा घिसता है 
मगर देखना कोई कितने हृदयों में बसता है  
मानवता का इतिहास हमारा ये बतलाता है 
अपने कृत्यों से ही कोई महान कहलाता है 
मत देखो पीछे कितनी वो भीड़ जुटा लेता है 
नायक तो खुद को सब के लिए लुटा देता है 
दो कृष्ण नहीं होते जग में दो राम नहीं होते हैं
ईसा और गौतम कईयों के नाम नहीं होते हैं
मत देखो वो किस महापुरुष जैसा दिखता है 
देखो तो निजता में कोई कितना खिलता है 

No comments:

Post a Comment