Wednesday 12 September 2012

जीरो लॉस

 
चारा खाना तो पुरानी बात हो गई 
फिर इन्होने स्पेक्ट्रम खाया 
अभी अभी खनिज लोहा 
पचा भी नहीं था 
इनने कोयला खाना शुरू कर दिया 
ये मेनू तो बड़ी बड़ी दावतों का है 
छोटी छोटी और चीजें तो खैर 
ये खाते ही रहे बीच बीच में 
तोपें ताबूत गोले बारूद 
बालू बजरी हवाई जहाज 
पुल जमीनें सड़कें खाद 
रुपया तो बीच बीच में 
बिटविन द मील्स 
बिफोर द मील्स 
आफ्टर द मील्स 
और हाजमा इनका गज़ब का है दोस्तों 
सब पचा डालते हैं 
निकालते कुछ भी नहीं 
जीरो लॉस 

No comments:

Post a Comment