Monday 8 March 2010

यह भी गुजर जायेगा

यह भी गुजर जायेगा
ये महावाक्य पढ़ा था कभी
एक बार जब तकलीफ़ में थे हम
याद आ गया ये वाक्य
अच्छा लगा सुकून मिला दिल को
और जब बहुत खुश थे कभी हम
याद आ गया वही महावाक्य
नहीं अच्छा लगा इस बार
भूल हो गई यहीं
चूक गये जीवन के मूलमन्त्र से
हम सब हमेशा हमेशा से
यूँही चूकते आये हैं
अभिशापित है इन्सानियत क्या
क्या यही है नियति

No comments:

Post a Comment