Thursday 4 February 2010

कबूतर

उस गाँव में
नहीं जानते थे लोग
किसी चिड़िया को
सिवाय कबूतर के
लग गया एक दिन
उनके हाथ
कहीं से उड़ता आया
एक रंग बिरंगा खूबसूरत तोता
परेशान हो गये लोग
देखा नहीं था कभी
इतना भद्दा कबूतर
खैर उसको ठीक करना
उसके ही हित मे था
और ज़रूरी भी
क्योंकि वे दयालु लोग थे
सो
काट दी गई उसकी कलगी
सीधी कर दी गई घिस कर उसकी चोंच
काट छाँट दिया गया परों को
और फ़िर रंग दिया गया
सफ़ेद रंग में उसे
अब चैन आया लोगों को
बन गया कबूतर
जाने कब से हम सब
अपने घरों में
शिक्षा संस्थानो में
बना रहे हैं हर रोज़
कबूतर

No comments:

Post a Comment