Monday 8 February 2010

सेन्स ऑफ़ ह्यूमर

चार माह का नन्हा बच्चा
लेटा लेटा स्वयं मे मस्त
किसी भीतरी खुशी से प्रफ़ुल्ल
हाथ पाँव फ़टकारता
मुट्ठियों को ज़ोर से भींचे
मुस्कराता रहता है मन्द मन्द
विधाता ने बनाने के बाद उसे
जैसे कि चुपके से
सौंप दी हो कोई अकूत सम्पदा
खुलेगीं धीरे धीरे मुट्ठियाँ उसकी
ज्यों ज्यों बड़ा होगा
और फ़िर पायेगा कि
हाथ खाली हैं
मजाक किया था शायद भगवान ने
हो सकता है उनका भी हो
सेन्स ऑफ़ ह्यूमर

No comments:

Post a Comment