Friday 12 February 2010

तुम कहो

सुनी है
खामोश नज़रों से
लरज़ते लबों से
सुर्ख आरिज़ से
गहरी साँसो से
तेज धड़कन से
बात हमने जो
तुम भी तो कहो

No comments:

Post a Comment