Monday 9 November 2009

जन्म दिन

हर दिन जैसा ही
ये भी वही दिन
और एक बरस निकल गया
और करीब और करीब
मौत के कदमो की आहट
साँसो के परदे में चली आती चुपचाप
इच्छायें आशंकाये
न खत्म हों तो न खत्म हों
और फ़िर तुम्हारी मंगलकामनायें
ये चाहना कि सब शुभ हो
फ़िर याद दिलाने को
कि नहीं है शुभ सब कुछ.
हाँ लेकिन ये भी याद दिलाने को
कि मै अकेला नहीं
इस कतार में
तुम भी हो
और भी हैं
सभी हैं
तो फ़िर
ये खुशी की बात है
या और दुख की.

1 comment:

  1. पता नही किसका शेर है लेकिन यह मुझे जन्म दिन पर याद आता है .." मौत से उधार लेकर एक उम्र गुजारते है हम / वर्षगाँठ की किश्तो मे यह कर्ज़ उतारते है हम " बधाई हो ।

    ReplyDelete