Sunday 15 July 2012

इबारत

वह कभी हाँ नहीं कहती

असमंजस में था वो युवा

अभी नया है स्त्री की इबारत पढ़ने में

कोई उसे बताए

वो न भी नहीं कहती

No comments:

Post a Comment