Monday 13 August 2012

संयुक्त प्रगति

हे गरीबों भूखे मरने वालों

हे दरिद्रनारायणों

जन्माष्टमी के पावन पर्व पर

अपने मनमोहन की ओर से

मोबाईल फोन की भेंट स्वीकार करो

ये तुम्हारे बड़े काम आएगी

तुम्हे जब कभी दो चार दिन के बाद

रोटी वगैरह मिल सके खाने को

तुम बता सकते हो दूर अपने दोस्त को

और चौड़ी छाती करके उससे पूछना

कि उसे मिली अब तक कि नहीं

फसल सब जब सूख जाएगी

और तुम्हारा बाप कर्ज में आकंठ डूबा परेशान हो

फाँसी लगाने की तैयारी में होगा

तो ये समाचार अब जल्दी भेज सकोगे तुम

और पूछना अपने मामा से फोन करके

कि वहाँ जो बाढ़ आई है भीषण

कितने बचे उनके बच्चे बह जाने से

और वहाँ ऊपर पेड़ पर सिग्नल ठीक ठाक है कि नहीं

जहाँ वे सब बैठें हैं चढ़ के कई दिनों से

सब समाचार अपने लोगों का पता रखना चाहिए

बुआ की जवान बिटिया से रात झोपड़ी में

फिर जबरदस्ती किया हवलदार

कच्ची पीके अभी जो कांड हुआ

उसमे कौन कौन नहीं रहा तुम्हारे घर का

और उस पार से जो आ के बस गए थे फर्जी

कुछ तुम्हारा भी जबरन कब्जा कर लिए क्या

जानकारी बड़ी चीज है

छोटा भाई पड़ा रहा बुखार में कई दिन

दवाई नहीं मिली मर गया

चाची अभी परसों घर ही में

आठवें बच्चे के टाइम खतम हो गईं

एक कार वाला रौंद दिया रात

सामने फुटपाथ पे सोये थे जितने

नई शादी किये थे बिटिया की

ससुराल वाले मार के भगा दिए

सब मालूम होना चाहिए

तो भईया ये फोन तुम्हारे बड़े काम आने वाली चीज है

देश आगे जा रहा है

तुम काहे पीछे रहो

भूखे हो तो कोई बात नहीं

लेकिन तुम्हारे कान से सटा कोई झुनझुना न हो

तो हमको अच्छा नहीं लगता

हमें तो भाई इन्क्लूसिव ग्रोथ करनी है

No comments:

Post a Comment