Wednesday 22 August 2012

पहले उसने

संघर्ष विराम का उल्लघंन किया उन्होंने

पुंछ सेक्टर में सीमा पार से गोलीबारी

जवाब में चली गोली से मारा गया एक घुसपैठिया

हमारी सेनाएं सतर्क चिंता की कोई बात नहीं

चीख रहा था भोंपू कल शाम

उधर से फिर बेवजह गोलियाँ दागी गईं

हमारे जवानों ने मुकाबला किया डटकर

जवाबी कार्रवाई में उनके दो सिपाही हलाक

हमारे जवान चौकस हैं हालात काबू में

उस तरफ के भोंपू ये सब अलाप रहे थे

याद आया जब बच्चे छोटे थे हमारे

एक आता रोता चीखता

पापा उसने मुझे मारा

पीछे से भागता दूसरा आता

नहीं इसने मुझे मारा पहले

उनके हाथों की वे छोटी छोटी लकडियाँ

बड़ी बंदूकें बन गईं हैं अब

और अब सिर्फ खून ही नहीं बहता

जानें भी जाती हैं

No comments:

Post a Comment