Tuesday, 28 August, 2012

होगी शांति चारों ओर

होंगे कामयाब होंगे कामयाब

हम होंगे कामयाब एक दिन.........

देश प्रेम के कार्यक्रमों में

बच्चों के जलसों में

विरोध प्रदर्शनों में

अनवरत गाया जा रहा है ये गीत

सन तिरासी से

बना नहीं था उससे पहले

वरना गा रहे होते हम अजल से

गा रहें हैं आज

और गाते रहेंगे आगे भी

बहुत ठीक से पता नहीं

क्या चाहते रहे इसे गाने वाले

लेकिन कामयाब होते तो दिखे नहीं आज तक

हाँ लेकिन मंच पर प्रेरणा श्रोत बने बैठे वे सज्जन

जो देखते सुनते रहे सबको गाते

वे जरूर होते गए कामयाब

और ऊँची कुर्सी

और बड़ा बंगला

और बड़ी तिजोरियां

और बड़े हरम

और मोटी चमड़ी

और मोटा पेट

No comments:

Post a Comment