Thursday, 16 August, 2012

ज़रा देर और

खुशबुएँ

लिफाफों में डाल

चुनिन्दा पतों पर

भेजी जाने लगीं

फूलों की

हवाओं से

अनबन हो चली

झोंको से महफूज़

सिहरती ओस की बूँद

नन्ही पत्ती पर

ज़रा देर और

रक्स करेगी

सूरज के निकलने तक

No comments:

Post a Comment