Sunday 26 August 2012

उदास चाँद


चाँद आज उदास होगा

कोई जो पड़ोस से आया था सुध लेने पहली बार

इतनी मेहनत मशक्कत से

दांव पर लगा कर जिंदगी

देखने करीब से

खुद उसी से पूछने उसका हाल

किसी तकलीफ में तो नहीं है

बेचारा अकेला रहता है

कोई तो नहीं भला मानुस देखभाल करने को

यहाँ पड़ोस में तो खूब चहल पहल है

वहाँ लड़ने झगड़ने तक को भी कोई नहीं

उसकी तारीफ़ में पढ़ी गई कवितायें

उसकी ख़ूबसूरती में बनाए गए चित्र

उसकी फैलती चांदनी में यहाँ नीचे सजी महफ़िलें

सबसे अनजान तनहा वो

खुश हुआ होगा अपने आँचल में उस प्यारे को पाकर

अब जब वो नहीं रहा

चाँद वाकई बहुत उदास होगा आज

No comments:

Post a Comment