Wednesday 6 January 2010

Judge Ye Not

पूरब को भागती हुई नदी
पश्चिम की ओर जाती नदी को देखकर
हैरान है
पक्का भरोसा है उसे कि
दूसरी नदी भटक गई है रास्ता
गलत है दिशा तो
कैसे पहुँच पायेगी मंजिल को
दुखी होती है
चिन्तन करती है
कारण समझने की करती है कोशिश
नतीजे निकालती है
किसी ने बरगला दिया होगा
हो सकता है कोई छुद्र स्वार्थ हो
बुजुर्गों ने सिखाया न हो सन्मार्ग पर चलना
मूर्ख हो न जान पाई हो सही राह
और अगर दूसरी नदी भी
पहली के बारे में
कुछ ऐसा ही सोचती हो
तो क्या आश्चर्य
सभी नदियाँ सोचती हैं ऐसा ही
किसी भी एक नदी की दिशा
ठीक ठीक किसी और जैसी नहीं होती
लेकिन सभी
बिना एक भी अपवाद के
पहुँच ही जाती हैं सागर तक

(2)
हम सब नदियाँ
छोटी बड़ी धीरे तेज छिछली गहरी
पा लेती हैं अपनी मंजिल
महासागर इस विराट का
दिशा दशा एवं अन्य सब विशेषण
सीमित संकुचित और अकिंचन हैं
हमारा जीवन और जीवन दर्शन भी
असीम विस्तृत और भव्य है
अस्तित्व !

No comments:

Post a Comment